5/21/2007

अपील- कृपया जगदीप डांगी को साथ दीजिए

अपील
महानुभावो एवं मित्रो,
जाने-माने हिंदी सेवी इंजिनियर श्री जगदीप डांगी इन दिनों संकट में हैं । प्रतिभासंपन्न होने के बावजूद उन्हें उनका सम्मान और उस नाते उनका प्रजातांत्रिक अधिकार भी हम हिंदी वाले नहीं दिला सके । इसमें मात्र सरकारें ही दोषी नहीं है । सारा हिंदी समाज भी कहीं न कहीं उत्तरदायी है । बहरहाल हमें इस समय मिलकर हमें उनके सम्मान की वापसी की दिशा में ही व्यक्तिगत या सांगठनिक स्तर पर सोचना चाहिए कि उन्हें किस तरह ज्यादा से ज्यादा अनुसमर्थन और सहयोग मिल सके । एक विश्वस्तरीय हिंदीसेवी का मनोबल न गिरे । भविष्य में भी इस तरह की पुनरावृति न हो ।
00000000000
छत्तीसगढ़ राज्य की बहुआयामी सांस्कृतिक संगठन - सृजन-सम्मान अर्थात् हमारी संस्था इस विज्ञप्ति के माध्यम से अपील करती है - देश के महामहिम राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, कर्णधारो, राजनीतिज्ञो, पत्रकारों, मीडिया, जनता द्वारा चुने हुए प्रतिनिधि खासकर हिंदी सेवी जन प्रतिनधिगण जैसे सांसदो, विधायकों, मंत्रियों, नौकरशाहों, उद्योगपतियों, हिंदी-संगठनो(शासकीय एवं अशासकीय), बौद्धिक संगठनो, धनपतियों सहित आम नागरिकों से कि वे -
00000000000
इस अवसर पर कृपया श्री जगदीप डांगी जी के हित में कुछ करने का उद्यम प्रारंभ करने का प्रयास करें, ताकि राज्य सरकार के स्तर पर कुछ हो, ताकि केंद्र सरकार की ओर से त्वरित पहल हो । कुछ नहीं तो अपने स्तर पर वैचारिक बहस प्रारंभ करें कि आखिर हिंदी के साथ यह क्या हो रहा है ? आखिर ऐसा कब तक होता रहेगा ? हमारी अंग्रेज़ियत भारत-भूमि में कब तक ऐसे दिन देखने को विवश करती रहेगी ? क्या ऐसी गतिविधियों और मानसकि उदासी के साथ ही हम भारतीय हैं ? और इन्हीं खुबियों के साथ हम भारत को विश्व के मानचित्र पर उसकी उज्जवलता के साथ उभार सकेंगे ? इन कलुषताओं को त्यागे बगैर नहीं ?
000000000
संस्था द्वारा एक निर्णय यह भी लिया गया है कि कल 21 मई 2007 को एक ज्ञापन राज्य के राज्यपाल और मुख्यमंत्री को भी राष्टपति महोदय के नाम से सौंपा जायेगा ।
00000000000
संस्था उनके उन्नत जीवन और सफलता की हार्दिक कामना करती है ।
00000000000
हम इस अवसर पर श्री मानस द्वारा शुरू किये गये वैचारिक विमर्श में सम्मिलित होने वाले सभी टिप्पणीकारों (ब्लॉगरों, लेखकों, संपादकों, पत्रकारों आदि)के प्रति भी कृतज्ञता ज्ञापित करते हैं जिन्होंने अपनी सक्रियता का परिचय दिया है । हिंदी के लिए अपनी वैचारिक प्रतिबद्धता को उजागर किया है ।
भवदीय
राम पटवा
प्रादेशिक महासचिव
एवं समस्त पदाधिकारी
--------------------
टीपः हम श्री डांगी जी का पता भी यहाँ दे रहे हैं ताकि आप उनसे वांछित संपर्क कर सकें-
----------------
श्री जगदीप डांगी
वार्ड नं. 2,को-ऑपरेटिव बैंक के पीछे,
स्टेशन क्षेत्र, गंज बसौदा,
जिला विदिशा (मध्यप्रदेश) भारत,
पिन- 464221
दूरभाष: घर. (07594) 222457
मोबाइल. 09826343498
ई-मेल: dangijs@yahoo.com,gjagdeep@sancharnet.in

2 टिप्‍पणियां:

Shastri JC Philip ने कहा…

यह कैसी विडम्बना है कि अपने ही देश में हिन्दी एवं हिन्दीभक्तों का आदर ठीक तरह से नहीं हो रहा है. यह तब तक होता रहेगा जब तक एक विदेशी भाषा को हिन्दीभाषी अधिक महत्व देंते रहेंगे.

-- शास्त्री जे. सी. फिलिप

संतोष ने कहा…

फिलिप साहब की बातों से मैं पूर्णतया सहमत हूं। डांगी जी को हमारा पूर्ण नैतिक समर्थन है।