4/16/2007

विश्व में गमकने लगा है छत्तीसगढ़ का साहित्य

(इंटरनेट पर छत्तीसगढ़ : एक मूल्याँकन)
वैश्वीकरण को इधर भारत में एक विवाद के रूप में लिया जाता रहा है । इसमें विकसित तकनीक और प्रौद्योगिकी भी सम्मिलित है । भारतीय समाज में उठने वाले प्रतिरोधी स्वरों में कंप्यूटर और इंटरनेट के उपयोग को लेकर उठाये जा रहे प्रश्नों को भी शामिल किया जाता रहा है । इस सब के बावजूद आज का जीवंत सत्य यह है कि कंप्यूटर और इंटरनेट आज के समय की वह योग्यता है जिसके बुनियादी ज्ञान के बगैर नागरिक को निरक्षर जैसी उपाधियों का सामना करना पड़ रहा है । कंप्यूटर साक्षरता जैसे शब्द कदाचित् इसीलिए भारतीय प्रशासनिक शब्दकोष में जोड़ा जा चुका है । चाहे हम लाख नकारें – अंतरजाल या इंटरनेट आज के विकसित समाज की पहचान बन चुका है । इन कथनों के साथ कहीं भी यह निहितार्थ नहीं कि मैं इंटरनेट की बुराईयों को नकारना चाहता हूँ । पर सच यह भी है कि मिडिया के अद्यतन घटकों में कोई भी घटक ऐसा नहीं है जो सर्वथा कृष्णपक्षीय दूर्गुणों से मुक्त है । इतनी भूमिका के साथ यदि हम छत्तीसगढ़ की उपस्थिति का जायजा लें तो आश्चर्च भी होता है और सुखद एहसास भी होता है और उस एहसास के पीछे है युवा ललित निबंधकार और तन-मन-धन से छत्तीसगढ़ की प्रतिष्ठा के सक्रिय इंटरनेट विशेषज्ञ जयप्रकाश मानस ।

यदि आप भी सच्चे मन से मूल्याँकन करना जानते हैं और वैश्विक मीडिया पर छत्तीसगढ़ की प्रतिष्ठा को रेखांकित करने की प्रविधियों से गुजर सकते हैं तो आपको इस छरहरी काया वाले 42 वर्षीय युवा की तस्वीर साफ-साफ दिखाई देगी । सीधे शब्दों में हम कहें तो आज विश्व स्तर पर किसी इकाई, घटना, व्यक्तित्व आदि के मूल्याँकन का माध्यम प्रिंट मीडिया या इलेक्टॉनिक मीडिया नहीं अपितु वेब मीडिया ही है । और मुझे यह लिखते हुए अतिशय प्रसन्नता हो रही है कि विश्व मीडिया में इस जुझारू और खुशमिजाज व्यक्तित्व के मालिक जयप्रकाश मानस ने जितना छ्त्तीसगढ का नाम प्रतिष्ठित किया है शायद ही किसी ने किया होगा । अब छत्तीसगढ़ी और छत्तीसगढ़ की रचनात्मकता भी इंटरनेट के माध्यम से समूचे विश्व में पढ़ी जाने लगी है ।

यह कोई भी भी नकार नहीं सकता सूचना, जानकारी और ज्ञान का सबसे विश्वसनीय माध्यम अब किताब, शोध ग्रंथ, समाचार पत्र या इलेक्ट्रानिक मीडिया नहीं अपितु वेबमीडिया है । जिसके सहारे सुदूर दक्षिण अफ्रीका के किसी अविकसित गाँव या फिर अमेरिका के किसी विकास के अद्यतन सुविधाओं से सम्पन्न नगर वांछित ज्ञान या सूचना प्राप्त करता है या अपनी जिज्ञासा को शांत करता है । अभी एक साल पहले की ही बात है कि जब हम इंटरनेट पर छत्तीसगढ़ को (हिंदी भाषा में)तलाशते थे तो भारत सरकार का एकमात्र वेबसाइट नज़र आता था जिसमें छत्तीसगढ़ की संस्कृति की कुछ जानकरी मिलती थी और वह भी भ्रामक । एनआईसी जो कि राज्य सरकार का नहीं अपितु भारत सरकार का ही वेबसाइट है में भी जो जानकारी मिलती थी वह केवल छ्तीसगढ़ शासन से संबंधित कुछ जानकारी हुआ करती थी । दुख की बात यह कि उसमें आपकी हमारी अपनी भाषा में कुछ भी नहीं । यानी कि सारा का सारा ज्ञान या सूचना अंगरेज़ी में । अब यह उन्हें कौन समझायें कि हिंदी भारत में ही प्रयुक्त होने वाली भाषा नहीं अपितु विश्व की सबसे ज्यादा बोली जानी वाली दूसरे क्रम की भाषा भी है । आज आप छ्त्तीसगढ़ को इंटरनेट के हजारों पृष्ठ में देख सकते हैं । चाहे वह साहित्य का पृष्ठ हो या फिर कला या किसी अन्य विधा का । और इसे आकार दे रहे हैं - जयप्रकाश मानस ।


छत्तीसगढ़ का पहला ब्लॉगजीन- सृजन-गाथा
छत्तीसगढ़ के साहित्य वैभव को वैश्विक मंच पर और वह भी उसकी अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी में प्रतिष्ठित करने में आज जयप्रकाश मानस का योगदान प्रत्यक्षतः देखा जा सकता है । और इसके पीछे कोई परियोजना का लोभ, कोई पुरस्कार, कोई प्रोत्साहन कोई या कोई आर्थिक लाभ नहीं अपितु छ्त्तीसगढ़ की अस्मिता को समूचे विश्व तक ले जाने का सपना ही काम कर रहा है । अपनी इस मुहिम के बारे में वे बताते हैं – “मैंने पाया कि इंटरनेट पर हिंदी भाषा में काम करने की तकनीक के बावजूद इंटरनेट पर छत्तीसगढ़ से संबंधित पृष्ठों की संस्था लगभग शून्य है । यह बात मुझे कचोट गई कि सचमुच छत्तीसगढ़ दरिद्र है ? जबकि यहाँ का लेखन सदैव राष्ट्रीय क्षितिज पर अव्वल रहा है । बस्स, मैंने उसी दिन ठान लिया कि मैं अपने तरफ से जितना भी बन पड़े कार्य करूँगा । इसे आप प्रेरणा कहें या कारण ।” उनकी लगन और निष्ठा के बदौलत ही छत्तीसगढ़ से हजारों पृष्ठ इंटरनेट पर जुड़ चुके हैं । इंटरनेट की सबसे क्रांतिकारी तकनीक साबित हुई है ब्लॉगिंग । यह खर्चीले वेबसाइट का एक तरह से विकल्प है जिसमें लिखने की स्वतंत्रता सूचना और प्रौद्योगिकी आधारित विश्व की बड़ी-बड़ी कंपनियाँ प्रोत्साहन और अवसर मुहैया करा रही है । युनिकोड़ अर्थात् अंतरजाल पर हिंदी में लेखन की तकनीक ने इसे और गति प्रदान की है । इसी तकनीक में प्रवीणता हासिल करते हुए श्री मानस ने अपनी यात्रा की शुरुआत की । सबसे पहले उन्होंने सृजनगाथा नामक ब्लॉगजीन तैयार की जो छत्तीसगढ़ की पहली ब्लॉगजीन है । इस का पता है –
www.srijansamman.blogspot.com । यह एक तरह से इंटरनेट में राज्य की पहली पत्रिका भी है । जो विश्व के 30 से अधिक देशों के 5000 से अधिक शोध, छात्रो, इंजिनियरों, विश्वविद्यालय के प्राध्यापकों, और आम पाठकों में नियमित पढ़ी जाती है । इस ब्लॉगजीन में न केवल छत्तीसगढ़ बल्कि देश के ऐसे सैकड़ो कवि, लेखक, निबंधकार, लघुकथाकार, कथाकार छप चुके हैं जिनके लिए हिंदी साहित्य में अग्रग्रण्य और महत्वपूर्ण होने के बावजूद इंटरनेट तकनीक के ज्ञान और जानकारी के अभाव या असुविधा के कारण नेट आधारित पत्र-पत्रिकाओं में छपना कठिन कार्य था। इनमें पद्मश्री मुकुटधर पांडेय, गुरुदेव काश्यप चौबे, राजेन्द्र अवस्थी, विष्णुनागर, उमाकांत मालवीय, बालशौरि रेड्डी, कुँवर नारायण, वरिष्ठ गीतकार एवं नवगीतकार स्व. हरि ठाकुर, देवेन्द्र शर्मा इन्द्र, नईम, डॉ. इसाक अश्क, यश मालवीय, अशोक अंजुम, संतोष रंजन, फिराक गोरखपुरी के नाती और कवि, विश्वरंजन, प्रेमशंकर रघुवंशी, हाइकुकार डॉ. भगवत शरण अग्रवाल, रमाकांत श्रीवास्तव, आलोचक स्व. प्रमोद वर्मा, खगेन्द्र ठाकुर, डॉ. बल्देव, रमेश अनुपम, व्यंग्यकार विनोद शंकर शुक्ल, गिरीश पंकज, डॉ. कांतिकुमार जैन, रमेश दत्त दुबे, राजेश गनोदवाले, कहानीकार डॉ. परदेशी राम वर्मा, के.पी. सक्सेना दूसरे, डॉ. मालती शर्मा, एस. अहमद, विजय देव, बच्चू जांजगिरी, सुधीर शर्मा, राम पटवा, डॉ.चित्तरंजन कर, संजय द्विवेदी, अजय पाठक, संतोष रंजन, नंदकिशोर तिवारी, सतीश जायसवाल । इसमें प्रेमचंद परिवार के जीवित सदस्यों में सबसे वरिष्ठ कृष्ण कुमार राय का मार्मिक संस्मरण भी समादृत है जो 81 वर्ष की अवस्था में भी लगातार सृजनरत हैं ।

ऑनलाइन किताबों में अव्वल राज्य छत्तीसगढ़
शायद ही भारत का कोई राज्य होगा जहाँ के निवासी साहित्यकारों की किसी समग्र कृतियाँ संपूर्णतः इंटरनेट पर ऑनलाइन होगीं । यह काबिले तारीफ है कि मानस जी ने जटिल और श्रमसाध्य कार्य होने के बावजूद रात-दिन एक करके अब तक 14 किताबों को समूची दुनिया तक पहुँचा दिया है । इसमें छत्तीसगढ़ के युवा गीतकार अजय पाठक का गीत संग्रह गीत गाना चाहता हूँ(
http://ajaypathak1.blogspot.com/), होना ही चाहिए आँगन (www.kaviayan.blogsplt.com), युवाकवि अनुपम वर्मा की कविता संग्रह दस्तक (http://dastakkavita.blogspot.com/) के.पी. सक्सेना की किताब (http://kpsaxenadoosre.blogspot.com/), पत्रकार तपेश जैन का छत्तीसगढ़ के महत्वपूर्ण चीजों पर लिखा आलेख संग्रह (http://tapeshjain.blogspot.com/) । इतना ही नहीं (http://jrsoni2.blogspot.com/) एक ऐसे जाल स्थल का पता है जहाँ आप डॉ. जे. आर. सोनी का उपन्यास पछतावा मुफ्त में पढ़ सकते हैं । ज्ञातव्य हो कि यह अंतरजाल पर छत्तीसगढ़ का पहला ऑनलाइन उपन्यास भी बन चुका है । इसके अलावा श्री सोनी की कृति चन्द्रकला भी अब अंतअंतरजाल पर पहले छत्तीसगढ़ी उपन्यास (http://jrsoni.blogspot.com/) के रूप में समूचे विश्व के लिए उपलब्ध हो चुका है । हिरण्यगर्भ गौतम पटेल की शोधकृति है जो ईश-ज्योतिष और प्रकृति विज्ञान पर केंद्रित है । इस कृति में भगवान राम सहित चारों भाई, सीता व राम परिवार के सभी सदस्यों की जन्म कुंडलियों का विश्लेषण विशेष उल्लेखनीय है जो दुर्लभ है । इस वेबजाल का पता है - http://hiranyagarva.blogspot.com/ । श्री मानस अपने रम्य - ललित निबंधों के लिए भी समकालीन साहित्यिक बिरादरी में जाने जाते हैं, अतः उनके लालित्य प्रेम का ही प्रतिफल है – इंटरनेट पर ललित निबंधों की श्रृंखला । ललित निबंध नामक ब्लॉग पर राज्य के रम्य रचनाओं के वरिष्ठ लेखक डॉ. शोभाकांत झा के चुनिंदे 12 रचनाओं का ऑनलाइन आनंद पूरे विश्व के पाठक, शोधछात्र आदि ले रहे हैं । यहाँ वे हिंदी के सभी ललित निबंधकारों को रखने जा रहे हैं ।

अंतरजाल पर हिंदी की प्रतिष्ठा अभियान में केवल शहर-नगर निवासी साहित्यकारों को ही तरजीह दी जा रही है ऐसा कहना अनुचित होगा । वे दूर-दराज और इंटरनेट की सुविधा से वंचित जनपदों के साहित्यकारों को भी विश्वव्यापी मीडिया – इंटरनेट पर मौका दे रहे हैं । इसमें आप नथमल शर्मा जैसे गीतकारों को भी गिन सकते हैं जिनकी ‘एक गीत तुम्हारे नाम ‘ आदि को शुमार कर सकते हैं । हिंदी साहित्य के अति प्रतिष्ठित और महत्वपूर्ण काव्य कृतियों को भी वे बिसारे बिना अंतरजाल पर लाते जा रहे हैं । इसमें मैथिलीशरण गुप्त जी के खंडकाव्य सैरेन्ध्री को रखा सकता है जो khandkavya1 नामक वेबपृष्ठ में समग्रतः पढ़ा जा सकता है जिसके लिए विश्व के कई देशों के पाठकों से उन्हें सहयोग बधाई का आश्वासन मिला है ।

वे इन दिनों जिन परियोजनाओं पर सघनता से काम कर रहे हैं उनमें कविता संचयन – विहंग-बीसवीं सदी की हिंदी कविता में पक्षी(संपादक- रमेश दत्त दुबे, जयप्रकाश मानस), ललित निबंध संग्रह- झरते फूल हरसिंगार के (डॉ. श्रीराम परिहार)बाल कविता संग्रह-एक हमारा देश(गिरीश पंकज), खंडकाव्य- हनुमान (डॉ. चित्तरंजन कर), शोध ग्रंथ –लघुकथाः दिशा और दशा (डॉ. अंजलि शर्मा), उपन्यास- एक डिप्टी कमिश्नर की डायरी(डॉ. महेन्द्र ठाकुर), आलेख संग्रह- मत पूछ हुआ क्या-क्या(संजय द्विवेदी), लघुकथा संग्रह (राम पटवा) कविता संग्रह- जुड़ने और टूटने के बीच(संतोष रंजन) । ये किताबें अतिशीघ्र इंटरनेट पर पूर्णतः ऑनलाइन उपलब्ध हो रही हैं ।

हिंदी और छत्तीसगढ़ी साहित्य के महत्वपूर्ण किताबों को आने वाले दिनों में पूरी दुनिया बिना असुविधा के ऑनलाइन पढ़ सकें इसके लिए श्रमरत श्री मानस की निष्ठा पर किसी तरह प्रश्नचिन्ह न करें तो वह दिन दूर नहीं जब हम इंटरनेट पर रामचन्द्र शुक्ल का निबंध संग्रह चिंतामणि, रामधारी सिंह दिनकर की प्रसिद्ध कृति संस्कृति के चार अध्याय, महादेवी वर्मा का संस्मरण संग्रह श्रृंखला की कडियाँ, मुकुटधर पांडेय की कृति ‘छायावाद और अन्य निबंध’, अज्ञेय की कृति हरी घास पर झण भर, हरिठाकुर का गीत संग्रह(संपादक- चेतन भारती), नरेश मेहता की काव्य कृति चैत्या, धर्मवीर भारती द्वारा इंक्कीस देशों की आधुनिक कविताओं का अनुवाद संकलन देशान्तर, श्रीकांत वर्मा की कृति भटका मेघ, माधवराव सप्रे की कहानियाँ, प्रभाकर श्रोत्रिय की आलोचना किताब रचना एक यातना है, गुरूदेव काश्यप चौबे का संपादकीय लेखों का संग्रह, परवीन शाकिर का ग़ज़ल संग्रह- ग़ज़लें मेरी, सुदीप बेनर्जी की कविता इतने गुमान, पंजाबी कवि पाश का संग्रह बीच का रास्ता नहीं होता, सतीश जायसवाल का कहानी संग्रह कहाँ से कहाँ तक डॉ. बल्देव की काव्य-कृति ‘वृक्ष में तब्दील हो गई औरत’, नारायण लाल परमार का बाल कविता संग्रह, डॉ. बिहारी लाल साहू की की शोध कृति- ‘छत्तीसगढ़ी प्रहलिकाएं’, गिरीश पंकज का पुरस्कृत व्यंग्य उपन्यास - ‘मिठलबरा की आत्मकथा’, डॉ. मन्नू यदु द्वारा संपादित शोध आलेख संग्रह- राम और रामकाज सहित कई किताबों को संपूर्ण दुनिया को पढ़ते हुए देख सुन सकेंगे ।

सृजनगाथा ने छत्तीसगढ़ का किया नाम रौशन
इन दिनों हिंदी पत्र-पत्रिकों की जैसे बाढ़ आयी हुई है । ऐसा कोई जनपद नहीं जहाँ से कोई न कोई लघुपत्रिका न निकल रही हो । इसमें अपना राज्य छत्तीसगढ़ भी सम्मिलित है किन्तु अंतरजाल या इंटरनेट की वेबमैग्जीन की बात उठती है तो हम दायें-बायें झाँकने को विवश हो जाते हैं । भारत में अंतरजाल की आयु 10 वर्ष हो जाने के बाद भी हिंदी की चार-छह साहित्यिक पत्रिकाएं ही इंटरनेट पर दिखती हैं । इनमें हंस और वागर्थ भी हैं जो व्यवस्थित प्रंबंधन या धनिकों के सरंक्षण में संचालित होती है । इनमें भी वागर्थ इंटरनेट पर अनियमित है । पिछले कई अंक इंटरनेट पर नहीं आ पाये हैं । बहरहाल छत्तीसगढ़ राज्य से सृजनगाथा का प्रकाशन न केवल राज्य की प्रतिष्ठित संस्था सृजन-सम्मान के लिए गौरव की बात है अपितु वह उन लोगों और संस्थाओं के लिए भी प्रेरणास्पद बन चुका है जो हिंदी के अंतरराष्ट्रीय विकास हेतु बिना दुकानदारी चलाये संकल्पित हैं । इसके पीछे भी लिटिल वेबमास्टर प्रशांत रथ और उनके पिता जयप्रकाश का गंभीर समर्पण है जो रात-दिन इस वेबसाइट के उन्नयन में सक्रिय रहते हैं । इंटरनेट पर मासिक मैग्जीन चलाना कोई बच्चों का खेल नहीं है इसे मैं व्यक्तिगत तौर पर श्री मानस के साथ बैठकर देख समझ पाया हूँ । अब तक इंटरनेट पर मात्र 8 अंक ही प्रकाशित हो सकी हैं पर यह अब विश्व की चर्चित हिंदी पत्रिकाओं में गिनी जाने लगी है । सृजनगाथा डॉट कॉम को अमेरिका, आस्ट्रेलिया, ब्रिटेन के कई विश्वविद्यालय जहाँ हिंदी की पढ़ाई होती है एक संदर्भ ग्रंथ के रूप में ले रही है । इतना ही नहीं विश्व के कई देशों के हिंदी छात्रों, पाठकों, प्रवासी नागरिकों ने अपना लिंक देकर सम्मानित किया है । आज सृजनगाथा की पहुँच 50 से अधिक देशों तक पहुँच गई है । इसमें पश्चिम के देश भी सम्मिलित हैं जिसके कई हिंदी लेखक लगातार सृजनगाथा में बाकायदा प्रकाशित भी होते हैं । www.srijangatha.com यूँ तो छत्तीसगढ़ और भारत के हिंदी रचनाकारों को अंतरराष्ट्रीय क्षितिज पर स्थापित करने के लिए संचालित की जा रही है खुशी की बात है कि इसका पहला संपूर्ण विशेषांक ब्रिटेन की प्रवासी हिंदी कविता पर प्रकाशित हुआ है । जिसमें 20 से अधिक प्रवासी कवियों की 125 से अधिक कवितायें समादृत हैं । दूसरे विशेषांक में ग़जल विशेषांक को देख सकते हैं जहाँ पहली बार हिंदी की 300 ग़ज़लें और हिंदी ग़ज़ल की दशा-दिशा और मूल्याँकन से संबंधित कई महत्वपूर्ण लेख प्रकाशित हैं ।

छत्तीसगढ की इस पहली वेबमैग्जीन में मात्र कविता, ग़ज़लें, हाइकु, दोहे, कहानी, लघुकथा, साक्षात्कार, ललित निबंध, पुस्तक समीक्षा ही नहीं बल्कि, कला, तकनीकी, पर्यावरण, विज्ञान, इतिहास, परंपरा, चिकित्सा, संगीत, लोक, संस्कृत आदि पर आधारित उत्कृष्ट रचनाएं प्रकाशित होती हैं जो सृजनगाथा डॉट कॉम को एक संपूर्ण वेबमैग्जीन साबित करती हैं । यहाँ इंटरनेट के अल्प जानकारों और युनिकोड़ फोंट में कार्य जानने वाले रचनाकारों को अंक संपादित करने का मौका भी उपलब्ध किया जा रहा है जिसमें दिल्ली के आईआईटी के छात्र शैलेष भारतीय ने युवा अंक का संपादन खास उल्लेखनीय है ।

इंटरनेट पर हिंदी में कामकाज करने की सुविधा के बावजूद यह विडंबना ही है भारतीय और खासकर जनपदीय संस्कृति को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्टित कराने के लिए भारतीय युवाओं, लेखकों और संगठनों सहित शासकीय उपक्रमों में कोई खास रूझान नज़र नहीं आ रहा है परन्तु यहाँ मानस की साधना की तारीफ करनी होगी कि उन्होंने इस दिशा में भी अपना काम प्रारंभ कर दिया है । यहाँ इस बात का खास चर्चा होनी चाहिए कि ऐसे समय में जब दिल्ली से बैठे-बैठे दो-चार इंटरनेट विशेषज्ञ अपने तथाकथित छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ी प्रेम को प्रदर्शित करने के नाम पर छत्तीसगढ की कमजोरियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रस्तुत कर रहे हैं जयप्रकाश मानस का कर्म कम खास नहीं जिनके एक विस्तृत आलेख छत्तीसगढ़ के साहित्यकार नामक लेख को स्वयं विश्व इनसायक्लोपीडिया(विकिपीडिया) वालों ने अपनी हिंदी विकिपीडिया में रखने का अनुरोध किया और आज आज वह विश्वकोश का अंग बन चुका है । मानस बताते हैं – “मैं इंटरनेट पर पश्चिम जर्मनी से संचालित इस खुली इनसायक्लोपिडिया पर छत्तीसगढ़ की कला, संस्कृति, इतिहास, पत्रकारिता और विभिन्न मुद्दों को शामिल करने की परियोजना पर भी अपना सक्रिय हूँ । पर समय, धन और तकनीकी सहयोग के कारण यह धीमी गति से ही हो पायेगा । कोई शासकीय प्रोत्साहन या संस्थागत सहयोग भी तो दूर-दूर तक नज़र नहीं आता ।” इतना ही नहीं श्री मानस के कई शोध आलेख आज कई तरह के विश्वकोश और संदर्भकोश वाले संस्थाओं के वेबसाइट में समादृत हो चुके हैं ।

विश्वकोष में छत्तीसगढ़ के कवियों की धमक
छत्तीसगढ़ के साहित्यिक बिरादरी और संस्कृति को वैश्विक क्षितिज तक पहुँचाने की ललक रखने वालों के लिए यह सुखद प्रसंग होगा कि इंटरनेट पर विश्व हिंदी कविता कोश की एक बृहत परियोजना में जयप्रकाश मानस एक संपादक के रूप में भूमिका निभा रहे हैं । www.hi.literature.wikia.com/wiki/ विकिपीडिया तकनीक पर आधारित हिंदी कविता का विश्वकोश है जो पाँच देशों के 5 तकनीकी विशेषज्ञ और संपादकों द्वारा संचालित हो रहा है जिसके पहले चरण में छत्तीसगढ़ राज्य के अति प्रतिष्ठित तीन कवियों छायावाद के संस्थापक कवि पद्मश्री मुकुटधर पांडेय, सरस्वती के संपादक पदुमलाल पन्नालाल बख्शी और श्रीकांत वर्मा की कविताएं शामिल की जा चुकी हैं । अगले चरण में अन्य महत्वपूर्ण कवियों की 10-10 कविताएं सपरिचय इस महत्वपूर्ण इनसायक्लोपिडिया में प्रतिष्ठित करने का काम के प्रति मानस लगातार जुटे हुए हैं । इसके लिए वे लगातार भारत के कई प्रांतो में बसे हिंदी कवियों से उनकी कविता का संग्रह कर रहे हैं । ज्ञातव्य हो कि इस कोश में पहले चरण में हिंदी के अति प्रतिष्ठित कवियों की 1000 से अधिक वेबपेज जुड़ चुके हैं तथा इस साइट को कई देशों के विश्वविद्यालयों के हिंदी और भाषा विभागों ने अपने छात्रों के लिए अनिवार्य संदर्भ के रेंखांकित कर रहे हैं । श्री मानस के इन योगदानों अर्थात् हिंदी इंटरनेटिंग के क्षेत्र में अभियानात्मक कार्य के लिए अमेरिका के एक विश्वविद्यालय ने तो उन्हें शोध की मानद डिग्री का आमंत्रण भी दिया है जो किसी भी छत्तीसगढ़िया और हिंदी सेवी के लिए सुखद और गर्व की बात हो सकती है ।

यदि इसी गति से मानस जैसे लोग जुटे रहे तो हजारों किमी दूर अफ्रीका के किसी गाँव से भी छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ की सभ्यता और संस्कृति के बारे में इतमीनान से जाना-समझा जा सकेगा । जैसा कि मानस स्वयं कहते हैं – इंटरनेट पर हिंदी माध्यम से सामग्री को लाना केवल मनोरंजन या साहित्यिक कार्य नहीं यह तो हिंदी को विश्व पर प्रतिष्ठा दिलाने का अभियान सा है जो आज दूसरे स्थान पर है । इसे हम प्रथम स्थान पर लाये बिना नहीं थम सकते । वैश्विक दुनिया के इस दौर में छत्तीसगढ़ की संस्कृति और साहित्य को प्रतिष्ठित कराने के लिए ऐसी शुरुआतों में साथ देने लिए निश्चय ही जागरुक लोग और संस्थायें सामने आयेंगी । इधर सरगुजा जैसे सुदूर और तकनीकी मामले में कथित रूप से पिछड़े इलाके से सरगुजा डॉट कॉम और राजधानी से दो अखबारों ने भी अपने अखबारों को वेबमीडिया में रखना प्रारंभ किया है । इतना तो विश्वास किया जाना चाहिए कि भविष्य में छत्तीसगढ़ अपनी वैश्विक छवि सूचना और संचार की प्रचलित प्रौद्योगिकी के सहारे गढ़ सकेगा ।
.....................................0000000000000................................
0राम पटवा
प्रकाशन अधिकारी
संस्कृति संचालनालय
छत्तीसगढ़ शासन
रायपुर, छत्तीसगढ़

3 टिप्‍पणियां:

Sanjeet Tripathi ने कहा…

साधु साधु

Sanjeet Tripathi ने कहा…

"विश्व में गमनके लगा है छत्तीसगढ़ का साहित्य"

गमनके????
या फ़िर गमकने?
कृपया मार्गदर्शन करें

मोहिन्दर कुमार ने कहा…

अच्छी जानकारी भरा लेख...