6/13/2008

आज मन पावन हुआ है

गीत

आज मन पावन हुआ है
जेठ में सावन हुआ है
अभी तक दृग बन्द थे ये,
खुले उर के छन्द थे ये,
सजल होकर बन्द थे ये,
राम अहिरावण हुआ है
आज मन पावन हुआ है
कटा था जो पटा रह कर,
फटा था जो सटा रह कर,
डटा था जो हटा रह कर,
अचल था, धावन हुआ है
जेठ में सावन हुआ है
आज मन पावन हुआ ही
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला
----००००-----

1 टिप्पणी:

बाल किशन ने कहा…

वाह.
प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद.